WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Rajasthan Agriculture Supervisor Syllabus 2024 एग्रीकल्चर सुपरवाइजर सिलेबस जारी

Rajasthan Agriculture Supervisor Syllabus 2024 PDF

Rajasthan Agriculture Supervisor Syllabus 2024: राजस्थान अधीनस्थ और मंत्रिस्तरीय सेवा चयन बोर्ड (RSMSSB) ने राजस्थान कृषि पर्यवेक्षक भर्ती 2024 के लिए परीक्षा पैटर्न और नया सिलेबस जारी कर दिया है।

Agriculture Supervisor Syllabus 2024

Agriculture Supervisor Syllabus: RSMSSB ने कृषि पर्यवेक्षक के रिक्त पदों की भर्ती के लिए अधिसूचना प्रकाशित की है। वे उम्मीदवार जो एग्रीकल्चर सुपरवाइजर भर्ती के इच्छुक हैं और सभी पात्रता मानदंड को पूरा करते हैं वे अधिसूचना पढ़ सकते हैं और ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। इस पोस्ट में हमने नवीनतम एग्रीकल्चर सुपरवाइजर सिलेबस 2024 प्रदान किया हैं।

DepartmentRajasthan Krishi Vibhag
Name of the ExamAgriculture Supervisor Exam
Conducting bodyRajasthan Subordinate and Ministerial Service Selection Board
Exam levelState
Selection ProcessWritten exam, Document Verification
Mode of examinationOffline
LanguageHindi
Official Websitewww.rsmssb.rajasthan.gov.in

Agriculture Supervisor Syllabus & Exam Pattern 2024

राजस्थान अधीनस्थ और मंत्रालयिक सेवा चयन बोर्ड (RSMSSB) ने आधिकारिक वेब पोर्टल पर कृषि पर्यवेक्षक भर्ती सिलेबस और परीक्षा पैटर्न जारी किया है। उम्मीदवार इस वेब पेज के माध्यम से अपने Rajasthan Krshi Paryavekshak Syllabus 2024 की जांच और डाउनलोड कर सकते हैं।

Rajasthan Agriculture Supervisor Exam Pattern 2024

कृषि पर्यवेक्षक के पद के लिए चयन प्रक्रिया में दो चरण शामिल हैं। कृषि पर्यवेक्षक परीक्षा पैटर्न में एक दिवसीय परीक्षा होती है जिसमें 5 खंड होते हैं। खंड सामान्य हिंदी, राजस्थान जीके, Culinary विज्ञान, बागवानी और पशुपालन हैं। प्रत्येक खंड में प्रश्नों की एक निर्धारित संख्या और संबंधित अधिकतम अंक हैं।

SubjectNo.of QuestionMarks
सामान्य हिंदी1545
राजस्थान का सामान्य ज्ञान, इतिहास एवं संस्कृति2575
शस्य विज्ञान2060
उद्यानिकी2060
पशुपालन2060
Total100300
  • परीक्षा में सभी प्रश्न वैकल्पिक एवं ओएमआर शीट आधारित होंगे।
  • राजस्थान एग्रीकल्चर सुपरवाइजर एग्जाम कुल 300 अंकों का होगा।
  • इसमें प्रश्नों की संख्या 100 रखी गई है।
  • प्रश्न पत्र में प्रत्येक प्रश्न 3 अंक का होगा।
  • इसमें नेगेटिव मार्किंग 1/3 भाग रखी गई है। यानी गलत उत्तर देने पर एक अंक की नेगेटिव मार्किंग होगी।
  • प्रश्न पत्र को हल करने के लिए 2 घंटे का समय मिलेगा।

Rajasthan Agriculture Supervisor 2024 in Hindi

Rajasthan Agriculture Supervisor in Hindi: कृषि पर्यवेक्षक परीक्षा को पास करने के लिए, परीक्षा के सिलेबस की गहराई से समझ होना महत्वपूर्ण है। आवेदकों की सुविधा के अनुसार आयोजित लिखित परीक्षा के एग्रीकल्चर सुपरवाइजर सिलेबस इन हिंदी को नीचे विस्तार से समझाया गया है।

Rajasthan Agriculture Supervisor Syllabus 2024 PDF

Rajasthan Agriculture Supervisor Syllabus

राजस्थान कृषि पर्यवेक्षक सिलेबस को पांच भागो में बाटा गया है। ये भाग निम्न प्रकार से है जैसे- General Hindi, Rajasthan G.K, Culinary Science, Horticulture, और Animal Husbandry है। उम्मीदवार के ज्ञान को प्रभावी ढंग से जांचने के लिए राजस्थान एग्रीकल्चर सुपरवाइजर सिलेबस 2024 डिज़ाइन किया गया है। 

Agriculture Supervisor Syllabus Topic Wise

राजस्थान एग्रीकल्चर सुपरवाइजर सिलेबस और एग्जाम पैटर्न 2024 विस्तृत रूप से नीचे दिए गए नोटिस से देख सकते हैं।

Rajasthan Agriculture Supervisor Syllabus 2024 (सामान्य हिन्दी)

  1. दिये गये शब्दों की संधि एवं शब्दों का संधि-विच्छेद।
  2. उपसर्ग एवं प्रत्यय – इनके संयोग से शब्द – संरचना तथा शब्दों से उपसर्ग एवं प्रत्यय को पृथक् करना, इनकी
    पहचान।
  3. समस्त (सामासिक) पद् की रचना करना, समस्त ( सामासिक) पद का विग्रह करना।
  4. शब्द युग्मों का अर्थ भेद।
  5. पर्यायवाची शब्द और विलोम शब्द।
  6. शब्द शुद्धि – दिये गये अशुद्ध शब्दों को शुद्ध लिखना।
  7. वाक्य शुद्धि – वर्तनी संबंधी अशुद्धियों को छोडकर वाक्य संबंधी अन्य व्याकरणिक अशुद्धियों का शुद्धिकरण।
  8. वाक्यांश के लिये एक उपयुक्त शब्द।
  9. पारिभाषिक शब्दावली प्रशासन से सम्बन्धित अंग्रेजी शब्दों के समकक्ष हिन्दी शब्द।
  10. मुहावरे – वाक्यों में केवल सार्थक प्रयोग अपेक्षित है।
  11. लोकोक्ति- वाक्यों में केवल सार्थक प्रयोग अपेक्षित है।

Agriculture Supervisor Syllabus 2024 (राजस्थान का सामान्य ज्ञान, इतिहास एवं संस्कृति)

  1. राजस्थान की भौगोलिक संरचना – भौगोलिक विभाजन, जलवायु, प्रमुख पर्वत, नदियां, मरूस्थल एवं फसलें।
  2. राजस्थान का इतिहास-
    • सभ्यताएं- कालीबंगा एवं आहड़
    • प्रमुख व्यक्तित्व- महाराणा कुंभा, महाराणा सांगा, महाराणा प्रताप, राव जोधा, राव मालदेव, महाराजा जसवंतसिंह, वीर दुर्गादास, जयपुर के महाराजा मानसिंह – प्रथम, सवाई जयसिंह, बीकानेर के महाराजा गंगासिंह इत्यादि । राजस्थान के प्रमुख साहित्यकार, लोक कलाकार, संगीतकार, गायक कलाकार, खेल एवं खिलाडी इत्यादि।
  3. भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में राजस्थान का योगदान एवं राजस्थान का एकीकरण।
  4. विभिन्न राजस्थानी बोलियां, कृषि, पशुपालन क्रियाओं की राजस्थानी शब्दावली।
  5. कृषि, पशुपालन एवं व्यावसायिक शब्दावली।
  6. लोक देवी – देवता – प्रमुख संत एवं सम्प्रदाय।
  7. प्रमुख लोक पर्व, त्योहार, मेले – पशुमेले।
  8. राजस्थानी लोक कथा, लोक गीत एवं नृत्य, मुहावरे, कहावतें, फड, लोक नाट्य, लोक वाद्य एवं कठपुतली कला।
  9. विभिन्न जातियां जन जातियां।
  10. स्त्री – पुरूषों के वस्त्र एवं आभूषण।
  11. चित्रकारी एवं हस्तशिल्पकला चित्रकला की विभिन्न शैलियां, भित्ति चित्र, प्रस्तर शिल्प, काष्ठ कला, मृदमाण्ड (मिट्टी) कला, उस्ता कला, हस्त औजार, नमदे – गलीचे आदि।
  12. स्थापत्य: दुर्ग, महल, हवेलियां, छतरियां, बावडियां, तालाब, मंदिर-मस्जिद आदि।
  13. संस्कार एवं रीति रिवाज।
  14. धार्मिक, ऐतिहासिक एवं पर्यटन स्थल।

RSMSSB Agriculture Supervisor Syllabus 2024 (शस्य विज्ञान)

  • राजस्थान की भौगोलिक स्थिति, कृषि एवं कृषि सांख्यिकी का सामान्य ज्ञान। राज्य में कृषि, उद्यानिकी एवं पशुधन का परिदृश्य एवं महत्व | राजस्थान की कृषि एवं उद्यानिकी उत्पादन में मुख्य बाधाऐं । राजस्थान के जलवायुवीय खण्ड, मृदा उर्वरता एवं उत्पादकता । क्षारीय एवं उसर भूमियां, अम्लीय भूमि एवं इनका प्रबन्धन।
  • राजस्थान में मृदाओं का प्रकार, मृदा क्षरण, जल एवं मृदा संरक्षण के तरीके, पौधों के लिए आवश्यक पोषक तत्व, उपलब्धता एवं स्त्रोत, राजस्थानी भाषा में परम्परागत शस्य क्रियाओं की शब्दावली। जीवांश खादों का महत्व, प्रकार एवं बनाने की विधियां तथा नत्रजन, फास्फोरस, पोटेशियम उर्वरक, एकल, मिश्रित एवं योगिक उर्वरक एवं उनके प्रयोग की विधियां। फसलोत्पादन में सिंचाई का महत्व, सिंचाई के स्त्रोत, फसलों की जल मांग एवं प्रभावित करने वाले कारक। सिंचाई की विधियां विशेषतः फव्वारा, बून्द – बून्द, रेनगन आदि। सिंचाई की आवश्यकता, समय एवं मात्रा। जल निकास एवं इसका महत्व, जल निकास की विधियां। राजस्थान के संदर्भ में परम्परागत सिंचाई से संबंधित शब्दावली। मृदा परीक्षण एवं समस्याग्रस्त मृदाओं का सुधार। साईजेल, हे-मेकिंग, चारा संरक्षण।
  • खरपतवार- विशेषताऐं, वर्गीकरण, खरपतवारों से नुकसान, खरपतवार नियंत्रण की विधियां, राजस्थान की मुख्य फसलों में खरपतवारनाशी रसायनों से खरपतवार नियंत्रण। खरतपवारों की राजस्थानी भाषा में शब्दावली।
  • निम्न मुख्य फसलो के लिए जलवायु, मृदा, खेत की तैयारी, किस्में, बीज उपचार, बीज दर, बुवाई समय, उर्वरक, सिंचाई, अन्तराशस्यन, पौध संरक्षण, कटाई – मढाई, भण्डारण एवं फसल चक्र की जानकारी:-
  • अनाज वाली फसले – मक्का, ज्वार, बाजरा, धान, गेहूं एवं जौ।
  • दाले – मूंग, चॅवला, मसूर, उड़द, मोठ, चना एवं मटर।
  • तिलहनी फसले- मूंगफली, तिल, सोयाबीन, सरसों, अलसी, अरण्डी, सूरजमुखी एवं तारामीरा।
  • रेशेदार फसले- कपास।
  • चारे वाली फसले- बरसीम, रिजका एवं जई।
  • मसाले वाली फसले- सौंफ, मैथी, जीरा एवं धनिया।
  • नकदी फसले – ग्वार एवं गन्ना।
  • उत्तम बीज के गुण, बीज अंकुरण एवं इसको प्रभावित करने वाले कारक, बीज वर्गीकरण, मूल केन्द्रक बीज, प्रजनक बीज, आधार बीज, प्रमाणित बीज।
  • शुष्क खेती – महत्व, शुष्क खेती की तकनीकी। मिश्रित फसल, इसके प्रकार एवं महत्व। फसल चक्र- महत्व एवं सिद्धान्त। राजस्थान के संदर्भ में कृषि विभाग की महत्वपूर्ण योजनाओं की जानकारी । अनाज एवं बीज का भण्डारण।

Raj Agriculture Supervisor Syllabus 2024 (उद्यानिकी)

  • उद्यानिकी फलों एवं सब्जियों का महत्व, वर्तमान स्थिति एवं भविष्य। फलदार पौधों की नर्सरी प्रबन्धन। पादप प्रवर्धन, पौध रोपण। फलोद्यान के स्थान का चुनाव एवं योजना। उद्यान लगाने की विभिन्न रेखांकन विधियां। पाला, लू एवं अफलन जैसी मौसम की विपरीत परिस्थितियां एवं इनका समाधान। फलोद्यान में विभिन्न पादप वृद्धि नियंत्रकों का प्रयोग। सब्जी उत्पादन की विधियां एवं सब्जी उत्पादन में नर्सरी प्रबन्धन।
  • राजस्थान में जलवायु, मृदा, उन्नत किस्में, प्रवर्धन विधियां, जीवांश खाद व उर्वरक, सिंचाई, कटाई, उपज, प्रमुख कीट एवं बीमारियां एवं इनका नियंत्रण सहित निम्न उद्यानिकी फसलों की जानकारी आम, नीम्बू वर्गीय फल, अमरूद, अनार, पपीता, बेर, खजूर, आंवला, अंगूर, लहसूवा, बील, टमाटर, प्याज, फूल गोभी, पत्ता गोभी, भिण्डी, कद्दू वर्गीय सब्जियां, बैंगन, मिर्च, लहसून, मटर, गाजर, मूली, पालक। फल एवं सब्जी परीरक्षण का महत्व, वर्तमान स्थिति एवं भविष्य, फल परीरक्षण के सिद्धान्त एवं विधियां। डिब्बाबन्दी, सुखाना एवं निर्जलीकरण की तकनीक व राजस्थान में इनकी परम्परागत विधियां। फलपाक (जैम), अवलेह ( जेली), केन्डी, शर्बत, पानक (स्क्वेश) आदि को बनाने की विधियां।
  • औषधीय पौधों व फूलों की खेती का राजस्थान के संदर्भ में सामान्य ज्ञान । राजस्थान के संदर्भ में उद्यान विभाग की महत्वपूर्ण योजनाएं।

Rajasthan Krshi Paryavekshak Syllabus 2024 (पशुपालन)

  • पशुपालन का कृषि में महत्व।
  • पशुधन का दूध उत्पादन में महत्व एवं प्रबन्धन।
  • निम्न पशुधन नस्लों की विशेषताऐं, उपयोगिता व उत्पति स्थान का सामान्य ज्ञान:-
  • गाय- गीर, थारपारकर, नागौरी, राठी, जर्सी, होलिस्टन फ्रिजीयन, मालवी, हरियाणा, मेवाती।
  • भैंस- मुर्रा, सूरती, नीली रावी, भदावरी, जाफरवादी, मेहसाना।
  • बकरी – जमनापारी, बारबरी, बीटल, टोगनबर्ग।
  • भेड़ – मारवाडी, चोकला, मालपुरा, मेरीनो, कराकुल, जैसलमेरी, अविवस्त्र, अविकालीन।
  • ऊंट प्रबन्धन, पशुओं की आयु गणना।
  • सामान्य पशु औषधियों के प्रकार, उपयोग, मात्रा तथा दवाईयां देने का तरीका।
  • जीवाणुरोधक – फिनाईल, कार्बोलिक एसिड, पोटेशियम परमेगनेट (लाल दवा), लाईसोल
  • विरेचक – मेग्नेशियम सल्फेट (मैकसल्फ), अरण्डी का तेल।
  • उत्तेजक – एल्कोहल, कपूर।
  • कृमिनाशक – नीला थोथा, फिनोविस।
  • मर्दन तेल- तारपीन का तेल।
  • राजस्थान के पशुओं की मुख्य बीमारियों के कारक, लक्षण तथा उपचार- पशु – प्लेग, खुरपका-मुंहपका, लगड़ी, एन्थ्रेक्स, गलघोटू, थनेला रोग, दुग्ध बुखार, रानीखेत, मुर्गियों की चेचक, मुर्गियों की खूनीपेचिस।
  • दुग्ध उत्पादन, दुग्ध एवं खीस संघटन, स्वच्छ दुग्ध उत्पादन, दुग्ध परिरक्षण, दुग्ध परीक्षण एवं गुणवत्ता। दुग्ध में वसा को ज्ञात करना, आपेक्षित घनत्व, अम्लता तथा क्रीम पृथक्करण की विधि तथा यंत्रों की आवश्यकता एवं दही, पनीर व घी बनाने की विधि । दुग्धशाला के बरतनों की सफाई एवं जीवाणु रहित करना । राजस्थान के संदर्भ में पशुपालन क्रियाओं एवं गतिविधियों से संबंधित शब्दावली।

Agriculture Supervisor Syllabus in Hindi PDF

RSMSSB Agriculture Supervisor Syllabus in Hindi PDF: आवेदकों को आरएसएमएसएसबी कृषि पर्यवेक्षक परीक्षा पैटर्न की जांच करनी चाहिए और एग्रीकल्चर सुपरवाइजर सिलेबस पीडीएफ डाउनलोड करना चाहिए। इससे परीक्षा का समग्र विचार प्राप्त करने में मदद मिलेगी ताकि उसके अनुसार तैयारी और योजना बनाई जा सके। 

  1. सबसे पहले आपको विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर विजिट करना होगा।
  2. अब आपकी स्क्रीन पर वेबसाइट का होम पेज खुलेगा।
  3. यहाँ आपको Syllabus का Link मिलेगा। 
  4. सिलेबस लिंक पर क्लिक करे।
  5. अब आप यहाँ पर अपनी परीक्षा का पाठ्यक्रम खोजे।
  6. अब आप एग्रीकल्चर सुपरवाइजर सिलेबस पर क्लिक करे।
  7. आपकी स्क्रीन कर Syllabus PDF खुलेगी।
  8. इसे आप नीच दिये लिंक से भी डाउनलोड कर सकते है।

Agriculture Supervisor Syllabus PDF Download

RSMSSB Agriculture Supervisor Syllabus PDF Links
Agriculture Supervisor Syllabus
Agriculture Supervisor Admit Card
RSMSSB Agriculture Supervisor Result
RSMSSB

other syllabus >>>

राजस्थान पशु परिचारक सिलेबसराजस्थान प्रयोगशाला सहायक सिलेबस

राजस्थान एग्रीकल्चर सुपरवाइजर सिलेबस: FAQ’s

Q.1: राजस्थान एग्रीकल्चर सुपरवाइजर परीक्षा के लिए कितने चरण हैं?

Ans: राजस्थान एग्रीकल्चर सुपरवाइजर परीक्षा में 2 चरण की प्रक्रिया शामिल है। पहले चरण में लिखित परीक्षा होती है और उसके बाद दस्तावेज सत्यापन होता है। 

Q.2: मुझे राजस्थान कृषि पर्यवेक्षक परीक्षा का सिलेबस कहां मिल सकता है?

Ans: विस्तृत विषयवार राजस्थान कृषि पर्यवेक्षक परीक्षा सिलेबस RSMSSB की आधिकारिक वेबसाइट से डाउनलोड किया जा सकता है।

Q.3: क्या राजस्थान एग्रीकल्चर सुपरवाइजर परीक्षा में नकारात्मक अंकन है? 

Ans: हाँ। राजस्थान कृषि पर्यवेक्षक परीक्षा में प्रत्येक गलत उत्तर के लिए 1/3 नकारात्मक अंकन होगा। 

Q.4: राजस्थान एग्रीकल्चर सुपरवाइजर परीक्षा में प्रत्येक प्रश्न कितने अंक का होता है?

Ans: राजस्थान एग्रीकल्चर सुपरवाइजर परीक्षा में सभी प्रश्न समान अंक के होते हैं। प्रत्येक प्रश्न के लिए 3 अंक निर्धारित हैं।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

I am Sanjay Verma from Rajasthan, and I like to write on topics related to education and government jobs. I have experience working in this industry for about 4 years. I have been working in the Job section of jobsrajasthan.com since 2023.

Leave a Comment

Close This Ads
WhatsApp
Telegram